Promote a Blog | Blog Directory | Content Marketing | Analytics | Blog | FAQ |

Explore » Blog Directory of Selected Blogs
Connect » Authentic Blogger Community
Discover » Featured Blogs and Topics

'किसान मुक्ति यात्रा'-देश भर में चार और यात्राएँ

content discovered on Wednesday, July 19, 2017 in aikscc, andolan, farmers, kisan, new delhi

Wed, Jul 19, 2017 at 6:55 PM AIKSCC के संयोजक वी एम सिंह ने की यात्रा के अगले चरण की घोषणा नई दिल्ली: 19 जुलाई 2017:(पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: राजधानी दिल्ली के जंतर मंतर पर किसान मुक्ति संसद आज दूसरे दिन भी जारी रहा। आत्महत्या कर चुके महाराष्ट्र के किसानों के बच्चों ने अपनी पीड़ा को एक नाटक के ज़रिए सबके सामने रखा। इस नाटक में उन लोगों ने दिखाया कि एक किसान की आत्महत्या के बाद उसके परिवार पर क्या गुज़रती है। बच्चों के इस प्रदर्शन ने दिल्ली के लोगों को झकझोर कर रख दिया।उत्तरप्रदेश के आलू किसानों ने भी ... read more »

হেমন্ত

content discovered on Wednesday, July 19, 2017

খাতা খুলতেই প্রথমে চোখে পড়লো রয় হ্যচটনের লেখা চারটি লাইন... “মৃত্যু আমার কাছে খুব স্বাভাবিক আর, একদিন আমায় কবর দেওয়া হবে কোন এক পাথরের নিচে, আর তখন সেটা অস্বাভাবিক কিছু হবেনা... জীবনের মতইস্বাভাবিক হবে মৃত্যু...” খাতাটি বন্ধ করে তাকালাম আয়নার দিকে, গালের দারিগুলো বেশ বড় হয়েছে, ওজনটাও বেড়েছে বলেই মনে হল। চুলে পাক ধরেছে আর গায়ের চামড়াও কুঁচকে গিয়েছে।আসলে অনেকদিন সূর্যের আলোর সাথে সম্পর্ক ছিল না কোন। কেবল চার দেওয়াল আর তাতে পাথরের আঁচর।ভেন্টিলেটরের মধ্যে দিয়ে দেখতে পেতাম কেবল একটা গাছ, আর হেমন্তের ঝর... read more »

झूठ का स्वर्णकाल

content discovered on Sunday, July 23, 2017

1949 में लिखी गयीजॉर्ज ऑरवेल की किताब नाइन्टीन एटी फोर सुव्यवस्थित तरीके से झूठ के प्रचार के तौर तरीकों के बारे में विस्तार से पूर्वाभास करती है। ऑरवेल ने एक दुनिया की कल्पना की थी जहां दुनिया तीन बड़े राष्ट्रों में बँट चुकी है , तीनों महा-राष्ट्र बंद समाज हैं। इन महा-राष्ट्रों का नेतृत्व जनता को अतिराष्ट्रवाद की खुराक के सहारे अपने नियंत्रण में रखे हुए है. व्यक्ति , उसकेरिश्ते , उसका जीवन यहां तक कि उसका अस्तित्व और अतीत भी राष्ट्रवाद की भेंट चढ़ चुका है और राज्य के सख्त पहरे में है. यहां अतीत की बात ... read more »

बहस है भड़ास है - Behas Hai Bhadaas Hai

content discovered on Thursday, July 20, 2017 in 2017, debate, development, hindi, india, news, news debate, poem

बहस है भड़ास है - Behas Hai Bhadaas Hai हिंदी बहस सर्कस की दूकान हर तरफ जो बहस है बहस है भड़ास है आदमी निराश है क्या घंटा विकास है जलने की आदत है तपती हुई रेत में तरुवर की छांव भी लिपटी इक रेस में अजब सी ये प्यास है चुबती हर सांस है शवों की ये नगरी लगती प्रगाढ़ है खून है ख़राब है फैली बिसात है आज मेरी बारी तो कल तेरी रात है बिच्छुओं के मेले में नाचता अकेला है वाद का विवाद है या गहरी सी चाल है लॉस्ट लाइट मेरी बात सत्य हैतेरी में झोल हैसत्य ही असत्य ह... read more »

কেনে সময়ৰ সাক্ষী....

content discovered on Friday, July 21, 2017

কেনে সময়ৰ সাক্ষী……এৰা, জীৱন সলনি হ’ব ধৰিছেহয়তো, স্থায়ীভাবেই৷এতিয়া সন্ধিয়াবোৰ আহিব আমাৰ স্মৃতিতয’ত তুমি আৰু মই কেতিয়াও একেলগে নাছিলোঁতথাপি একেধৰণৰেই হ’বদুখ তোমাৰ-মোৰ৷আহিবধৰা সন্ধ্যাবিহীন দিনবোৰৰ বাবেএকেধৰণৰ দুখ তোমাৰ-মোৰ৷অকলশৰে ৰৈ যোৱানিজ-নিজ ঠাইতএয়া কেনেধৰণৰ সময়ৰ সাক্ষী হৈ পৰিছোঁদুজন অচিনাকী মই-তুমি৷জীৱনৰ আৰম্ভণি আৰু যাত্ৰাৰ সমাপ্তিৰ মাজতএকো নাথাকিব, স্মৃতিত সযতনে ৰাখিব থ'বৰ বাবে৷ মূল (হিন্দী): সতীশ জয়চৱাল অনুবাদ: ডঃ মাখন লাল দাস read more »




COPYRIGHT NOTICE: BlogUpp does not claim ownership of any content distributed via this blog directory and its content marketing channels.
The authors of the blogs featured above are assumed to be the content owners. BlogUpp is a blog promotion and content marketing service. Learn more

Terms of Service | Privacy Policy | Copyright © 2017, BlogUpp (aka BlogUp)